सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जड़ भरत 5/9

 

जब दस्युराजके पुरोहित बने हुए लुटेरेने उस नर-पशुके रुधिरसे देवीको तृप्त करनेके लिये देवीमन्त्रोंसे अभिमन्त्रित एक तीक्ष्ण खड्ग उठाया ⁠।⁠।⁠१६⁠।⁠। 
  • चोर स्वभावसे तो रजोगुणी-तमोगुणी थे ही, धनके मदसे उनका चित्त और भी उन्मत्त हो गया था⁠। हिंसामें भी उनकी स्वाभाविक रुचि थी⁠। इस समय तो वे भगवान्‌के अंशस्वरूप ब्राह्मणकुलका तिरस्कार करके स्वच्छन्दतासे कुमार्गकी ओर बढ़ रहे थे⁠। आपत्तिकालमें भी जिस हिंसाका अनुमोदन किया गया है, उसमें भी ब्राह्मणवधका सर्वथा निषेध है, तो भी वे साक्षात् ब्रह्मभावको प्राप्त हुए वैरहीन तथा समस्त प्राणियोंके सुहृद् एक ब्रह्मर्षिकुमारकी बलि देना चाहते थे⁠। यह भयंकर कुकर्म देखकर देवी भद्रकालीके शरीरमें अति दुःसह ब्रह्मतेजसे दाह होने लगा और वे एकाएक मूर्तिको फोड़कर प्रकट हो गयीं ⁠।⁠।⁠१७⁠।⁠। 
  • अत्यन्त असहनशीलता और क्रोधके कारण उनकी भौंहें चढ़ी हुई थीं तथा कराल दाढ़ों और चढ़ी हुई लाल आँखोंके कारण उनका चेहरा बड़ा भयानक जान पड़ता था⁠। उनके उस विकराल वेषको देखकर ऐसा जान पड़ता था मानो वे इस संसारका संहार कर डालेंगी⁠। उन्होंने क्रोधसे तड़ककर बड़ा भीषण अट्टहास किया और उछलकर उस अभिमन्त्रित खड्‌गसे ही उन सारे पापियोंके सिर उड़ा दिये और अपने गणोंके सहित उनके गलेसे बहता हुआ गरम-गरम रुधिररूप आसव पीकर अति उन्मत्त हो ऊँचे स्वरसे गाती और नाचती हुई उन सिरोंको ही गेंद बनाकर खेलने लगीं ⁠।⁠।⁠१८⁠।⁠।
  •  सच है, महापुरुषोंके प्रति किया हुआ अत्याचाररूप अपराध इसी प्रकार ज्यों-का-त्यों अपने ही ऊपर पड़ता है ⁠।⁠।⁠१९⁠।⁠।
 परीक्षित्! जिनकी देहाभिमानरूप सुदृढ़ हृदयग्रन्थि छूट गयी है, जो समस्त प्राणियोंके सुहृद् एवं आत्मा तथा वैरहीन हैं, साक्षात् भगवान् ही भद्रकाली आदि भिन्न-भिन्न रूप धारण करके अपने कभी न चूकनेवाले कालचक्ररूप श्रेष्ठ शस्त्रसे जिनकी रक्षा करते हैं और जिन्होंने भगवान्‌के निर्भय चरणकमलोंका आश्रय ले रखा है—उन भगवद्‌भक्त परमहंसोंके लिये अपना सिर कटनेका अवसर आनेपर भी किसी प्रकार व्याकुल न होना—यह कोई बड़े आश्चर्यकी बात नहीं है ⁠।⁠।⁠२०⁠।⁠।
  •  इति श्रीमद्भागवते महापुराणे पारमहंस्यां संहितायां पञ्चमस्कन्धे जडभरतचरिते नवमोऽध्यायः ⁠।⁠।⁠९⁠।⁠। 


जिनकी देहअभिमान रूप सुदृढ़ हृदय ग्रंथि छूट गई है, जो समस्त प्राणियों के सुह्रद एवं आत्मा तथा वैरहीन है,साक्षात भगवान ही भद्रकाली आदि भिन्न-भिन्न रूप धारण करके अपने कभी न चूकनेवाले कालचक्ररूप श्रेष्ठ शस्त्रसे जिनकी रक्षा करते हैं और जिन्होंने भगवान के निर्भय चरणकमलों का आश्रय ले रखा है-- उन भगवतभक्त परमहंसो के लिए अपना सिर कटनेका अवसर आनेपर भी किसी प्रकार व्याकुल न होना-- यह कोई बड़े आश्चर्य की बात नहीं है।

भागवत महापुराण स्कंध 5 अध्याय 9 श्लोक 20.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

संवाद मन 5/11

 विरक्त महापुरुषों के सत्संग से प्राप्त ज्ञान रूप खड़ग के द्वारा मनुष्यको इस लोकमें ही अपने मोहबंधन को काट डालना चाहिए। फिर श्री हरि की लीलाओंके कथन और श्रवणसे भगवत स्मृति बनी रहनेके कारण वह सुगमतासे ही संसारमार्ग को पार करके भगवानको प्राप्त कर सकता है। भागवत महापुराण स्कंध 5 अध्याय 12 श्लोक 16.

भरत- मृगमोह

एक बार भरत जी गंडकी नदी में स्नान कर नित्य-नैमित्तिक तथा शौच आदि अन्य आवश्यक कार्यों से निवृत हो प्रणव का जाप करते हुए 3 मुहूर्ततक नदीकी धाराके पास बैठे रहे। 1 इसी समय एक हरिणी प्यास से व्याकुल हो जल पीने के लिए अकेली ही उस नदी के तीर पर आयी।2 अभी वह जल पी ही रही थी की पास ही गरजते हुए सिंह की लोकभयंकर दहाड़ सुनाई पड़ी। 3 हरिन जाति तो स्वभाव से ही डरपोक होती है। वह पहले ही चौकन्नी होकर इधर-उधर देखती जाती थी।अब ज्योंही उसके कान में वह भीषण शब्द पड़ा कि सिंहके डरके मारे उसका कलेजा धड़कने लगा और नेत्र कातर हो गए। प्यास अभी बुझी ही न थी, किंतु अब तो प्राणोंपर आ बनी थी। इसलिए उसनेभयवश एकाकी नदी पार करने के लिए छलांग मारी।4 उसके पेट में गर्भ था अतः चलते समय अत्यंत भय के कारण अपने स्थान से हटकर योनि द्वार से निकलकर नदी के प्रभाव में गिर गया। 5 राजर्षि भरत ने देखा कि बेचारा हरिणी का बच्चा अपने बंधुओं से बिछड़ कर नदी के प्रवाह में बह रहा है इससे उन्हें उस पर बड़ी दया आई और भी आदमी के समान उस मात्र हीन बच्चे को अपने आश्रम पर ले आए। 7 उस मृग छौने के प्रति भरतजी की ममता उत्तरोत्तर बढ़ती गई।वह नित्