सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रहूगण5/10

 पालकी अब भी सीधी चालसे नहीं चल रही है—यह देखकर राजा रहूगण क्रोधसे आग-बबूला हो गया और कहने लगा, ‘अरे! यह क्या? क्या तू जीता ही मर गया है? तू मेरा निरादर करके (मेरी) आज्ञाका उल्लंघन कर रहा है! मालूम होता है, तू सर्वथा प्रमादी है⁠। अरे! जैसे दण्डपाणि यमराज जन-समुदायको उसके अपराधोंके लिये दण्ड देते हैं, उसी प्रकार मैं भी अभी तेरा इलाज किये देता हूँ⁠। तब तेरे होश ठिकाने आ जायँगे’ ⁠।⁠।⁠७⁠।⁠।रहूगणको राजा होनेका अभिमान था, इसलिये वह इसी प्रकार बहुत-सी अनाप-शनाप बातें बोल गया⁠। वह अपनेको बड़ा पण्डित समझता था, अतः रज-तमयुक्त अभिमानके वशीभूत होकर उसने भगवान्‌के अनन्य प्रीतिपात्र भक्तवर भरतजीका तिरस्कार कर डाला⁠। योगेश्वरोंकी विचित्र कहनी-करनीका तो उसे कुछ पता ही न था⁠। उसकी ऐसी कच्ची बुद्धि देखकर वे सम्पूर्ण प्राणियोंके सुहृद् एवं आत्मा, ब्रह्मभूत ब्राह्मणदेवता मुसकराये और बिना किसी प्रकारका अभिमान किये इस प्रकार कहने लगे ⁠।⁠।⁠८⁠।⁠। जडभरतने कहा—राजन्! तुमने जो कुछ कहा वह यथार्थ है⁠। उसमें कोई उलाहना नहीं है⁠। यदि भार नामकी कोई वस्तु है तो ढोनेवालेके लिये है, यदि कोई मार्ग है तो वह चलनेवालेके लिये है⁠। मोटापन भी उसीका है, यह सब शरीरके लिये कहा जाता है, आत्माके लिये नहीं⁠। ज्ञानीजन ऐसी बात नहीं करते ⁠।⁠।⁠९⁠।⁠। स्थूलता, कृशता, आधि, व्याधि, भूख, प्यास, भय, कलह, इच्छा, बुढ़ापा, निद्रा, प्रेम, क्रोध, अभिमान और शोक—ये सब धर्म देहाभिमानको लेकर उत्पन्न होनेवाले जीवमें रहते हैं; मुझमें इनका लेश भी नहीं है ⁠।⁠।⁠१०⁠।⁠।राजन्! तुमने जो जीने-मरनेकी बात कही—सो जितने भी विकारी पदार्थ हैं, उन सभीमें नियमितरूपसे ये दोनों बातें देखी जाती हैं; क्योंकि वे सभी आदि-अन्तवाले हैं⁠। यशस्वी नरेश! जहाँ स्वामी-सेवकभाव स्थिर हो, वहीं आज्ञापालनादिका नियम भी लागू हो सकता है ⁠।⁠।⁠११⁠।⁠। ‘तुम राजा हो और मैं प्रजा हूँ’ इस प्रकारकी भेदबुद्धिके लिये मुझे व्यवहारके सिवा और कहीं तनिक भी अवकाश नहीं दिखायी देता⁠। परमार्थदृष्टिसे देखा जाय तो किसे स्वामी कहें और किसे सेवक? फिर भी राजन्! तुम्हें यदि स्वामित्वका अभिमान है तो कहो, मैं तुम्हारी क्या सेवा करूँ ⁠।⁠।⁠१२⁠।⁠। वीरवर! मैं मत्त, उन्मत्त और जडके समान अपनीही स्थितिमें रहता हूँ⁠। मेरा इलाज करके तुम्हें क्या हाथ लगेगा? यदि मैं वास्तवमें जड और प्रमादी ही हूँ, तो भी मुझे शिक्षा देना पिसे हुएको पीसनेके समान व्यर्थ ही होगा ⁠।⁠।⁠१३⁠।⁠।स्थूलता, कृशता, आधि, व्याधि, भूख, प्यास, भय,कलह,इच्छा,बुढ़ापा, निद्रा, प्रेम, क्रोध अभिमान और शोक -- यह सब धर्म देह अभिमान को लेकर उत्पन्न होने वाली जीव में रहते हैं; आत्मा में इनका लेश भी नहीं होता हैं।


जीने मरने की बात,जितने भी विकारी पदार्थ है, उन सभी में नियमितरूप से देखी जाती है। क्योंकि वह सभी आदि अंत वाले हैं।

भागवत महापुराण स्कंध 5 अध्याय 10 श्लोक 10, 11

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

संवाद मन 5/11

 विरक्त महापुरुषों के सत्संग से प्राप्त ज्ञान रूप खड़ग के द्वारा मनुष्यको इस लोकमें ही अपने मोहबंधन को काट डालना चाहिए। फिर श्री हरि की लीलाओंके कथन और श्रवणसे भगवत स्मृति बनी रहनेके कारण वह सुगमतासे ही संसारमार्ग को पार करके भगवानको प्राप्त कर सकता है। भागवत महापुराण स्कंध 5 अध्याय 12 श्लोक 16.

भरत- मृगमोह

एक बार भरत जी गंडकी नदी में स्नान कर नित्य-नैमित्तिक तथा शौच आदि अन्य आवश्यक कार्यों से निवृत हो प्रणव का जाप करते हुए 3 मुहूर्ततक नदीकी धाराके पास बैठे रहे। 1 इसी समय एक हरिणी प्यास से व्याकुल हो जल पीने के लिए अकेली ही उस नदी के तीर पर आयी।2 अभी वह जल पी ही रही थी की पास ही गरजते हुए सिंह की लोकभयंकर दहाड़ सुनाई पड़ी। 3 हरिन जाति तो स्वभाव से ही डरपोक होती है। वह पहले ही चौकन्नी होकर इधर-उधर देखती जाती थी।अब ज्योंही उसके कान में वह भीषण शब्द पड़ा कि सिंहके डरके मारे उसका कलेजा धड़कने लगा और नेत्र कातर हो गए। प्यास अभी बुझी ही न थी, किंतु अब तो प्राणोंपर आ बनी थी। इसलिए उसनेभयवश एकाकी नदी पार करने के लिए छलांग मारी।4 उसके पेट में गर्भ था अतः चलते समय अत्यंत भय के कारण अपने स्थान से हटकर योनि द्वार से निकलकर नदी के प्रभाव में गिर गया। 5 राजर्षि भरत ने देखा कि बेचारा हरिणी का बच्चा अपने बंधुओं से बिछड़ कर नदी के प्रवाह में बह रहा है इससे उन्हें उस पर बड़ी दया आई और भी आदमी के समान उस मात्र हीन बच्चे को अपने आश्रम पर ले आए। 7 उस मृग छौने के प्रति भरतजी की ममता उत्तरोत्तर बढ़ती गई।वह नित्